आज के बोल
राम तेज बल बुधि बिपुलाई। सेष सहस सत सकहिं न गाई ॥

हनुमानगढ़ी अयोध्या

Hanuman Gadi Ayodhya

Hanuman Gadi Ayodhya | हनुमानगढ़ी  अयोध्या |

हनुमानगढ़ी मंदिर तो श्री राम जी की नगरी अयोध्या में ही है। यह मंदिर अयोध्या में सरयू नदी के दाहिने तट पर एक ऊंचे टीले पर स्थित है। यहाँ तक पहुँचने के लिए 76 सीढियाँ चढ़नी होती हैं। यहाँ पर स्थापित हनुमान जी की प्रतिमा केवल छः इंच लम्बी है, जो हमेश फूल-मालाओं से सुशोभित रहती है। अयोध्या में स्थित यह सबसे प्राचीन मंदिर माना जाता है।

इस मंदिर के जीर्णोद्धार के पीछे एक कहानी है। सुल्तान मंसूर अली लखनऊ और फैजाबाद का प्रशासक था। तब एक बार सुल्तान का एकमात्र पुत्र बीमार पड़ा। वैद्य और डॉक्टरों ने जब हाथ टेक दिए, तब सुल्तान ने थक-हारकर आंजनेय के चरणों में अपना माथा रख दिया। लेकिन मुसलमान होने के नाते किसी मूर्ति के समक्ष झुकने से उसे ग्लानि हो रही थी। लेकिन मन में श्रद्धा थी और उसने सोचा कि खुदा और ईश्वर में कोई फर्क नहीं। उसने हनुमान से विनती की और तभी चमत्कार हुआ कि उसका पुत्र पूर्ण स्वस्थ हो गया। उसकी धड़कनें फिर से सामान्य हो गईं।

Hanuman Gadi Ayodhya | हनुमानगढ़ी  अयोध्या | तब सुल्तान से खुश होकर अपनी आस्था और श्रद्धा को मूर्तरूप दिया- हनुमानगढ और इमली वन के माध्यम से। उसने इस जीर्ण-शीर्ण मंदिर को विराट रूप दिया और 52 बीघा भूमि हनुमानगढ़ी और इमली वन के लिए उपलब्ध करवाई। संत अभयारामदास के सहयोग और निर्देशन में यह विशाल निर्माण संपन्न हुआ। संत अभयारामदास निर्वाणी अखाड़ा के शिष्य थे और यहां उन्होंने अपने संप्रदाय का अखाड़ा भी स्थापित किया था।

Hanuman Gadi Ayodhya

Hanumanagadhi mandir to shri ram ji ki nagari ayodhya men hi hai. Yah mandir ayodhya men sarayoo nadi ke dahine tat par ek unche tile par sthit hai. Yahaँ tak pahuँchane ke lie 76 sidhiyaँ chadh़ni hoti hain. Yahaँ par sthapit hanuman ji ki pratima keval chhh ench lambi hai, jo hamesh fool-malaon se sushobhit rahati hai. Ayodhya men sthit yah sabase prachin mandir mana jata hai.

Es mandir ke jirnoddhar ke pichhe ek kahani hai. Sultan mansoor ali lakhanu aur faijabad ka prashasak tha. Tab ek bar sultan ka ekamatr putr bimar pad़a. Vaidy aur dauktaron ne jab hath tek die, tab sultan ne thak-harakar aanjaney ke charanon men apana matha rakh diya. Lekin musalaman hone ke nate kisi moorti ke samaksh jhukane se use glani ho rahi thi. Lekin man men shraddha thi aur usane socha ki khuda aur eshvar men koe fark nahin. Usane hanuman se vinati ki aur tabhi chamatkar huaa ki usaka putr poorn svasth ho gaya. Usaki dhad़kanen fir se samany ho gen.

##2.jpg' title='Hanuman Gadi Ayodhya | हनुमानगढ़ी अयोध्या | ' alt='Hanuman Gadi Ayodhya | हनुमानगढ़ी अयोध्या | ' class='left'> Tab sultan se khush hokar apani aastha aur shraddha ko moortaroop diya- hanumanagadh aur emali van ke madhyam se. Usane es jirn-shirn mandir ko virat roop diya aur 52 bigha bhoomi hanumanagadh़i aur emali van ke lie upalabdh karavae. Sant abhayaramadas ke sahayog aur nirdeshan men yah vishal nirman sanpann huaa. Sant abhayaramadas nirvani akhad़a ke shishy the aur yahan unhonne apane sanpraday ka akhad़a bhi sthapit kiya tha.


हनुमानगढ़ी अयोध्या | Hanuman Gadi Ayodhya - : End

Post a Comment


 

 

 

 

PAYMENT METHOD

Top