आज के बोल
बिनय न मान खगेस सुनु डाटेहिं पइ नव नीच ॥

शनि की साढ़ेसाती में करे हनुमानजी की उपासना

Shani Ki Sadesati Me Kare Hanuman Ki Upasana

Shani Ki Sadesati Me Kare Hanuman Ki Upasana | शनि की साढ़ेसाती में करे हनुमानजी की उपासना |

परंपरागत रूप से हनुमान को बल, बुद्धि, विद्या, शौर्य और निर्भयता का प्रतीक माना जाता है। संकट काल में हनुमानजी का ही स्मरण किया जाता है। वह संकटमोचन कहलाते हैं। कहा जाता है कि बजरंग बली ने शनि महाराज को कष्टों से मुक्त कराया था, उनकी रक्षा की थी इसलिए शनि देवता ने यह वचन दिया था हनुमानजी की उपासना करने वालों को वे कभी कष्ट नहीं देंगे। बल्कि कष्टों को दूर कर उनकी रक्षा करेंगे।




शनि या साढ़ेसाती की वजह से होने वाले कष्टों के निवारण हेतु हनुमानजी की आराधना करनी चाहिए। बजरंग बली की पूजा से शनि का प्रकोप शांत होता है। सूर्य व मंगल के साथ शनि की शत्रुता व योगों के कारण उत्पन्न कष्ट भी दूर हो जाते हैं।

* मंगलवार को सूर्योदय के समय नहाकर ॐ श्री हनुमते नमः मंत्र का जप करें।
* मंगल को सुबह तांबे के लोटे में जल व सिंदूर मिश्रित कर श्री हनुमानजी को अर्पित करें।
* श्री हनुमान यंत्र को सिद्ध कर लाल धागे में धारण करें, हर मंगलवार को इसका विधिवत पूजन करें।
* लगातार दस मंगलवार तक श्री हनुमान को गुड़ का भोग लगाएं।
* शुक्ल पक्ष के पहले मंगलवार से यह क्रिया शुरू करें।
* हर मंगलवार को श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें।
* चित्रा या मृगशिरा नक्षत्रों में किसी भी मंगलवार से शुरू कर लगातार 10 मंगलवार तक श्री हनुमान के मंदिर में जाकर केले का प्रसाद चढ़ाएं।
* चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर श्री हनुमान को अर्पित करें। यह उपाय मंगलवार के दिन करने से शीघ्र सफलता मिलती है।




http://hindi.webduniya.com/religion-astrology-tantra/%E0%A4%B8%E0%A4%AD%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A3-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%B9%E0%A4%A8%E0%A5%81%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%9C%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%86%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%A7%E0%A4%A8%E0%A4%BE-1140120043_1.htm

Shani Ki Sadesati Me Kare Hanuman Ki Upasana

Paranparagat roop se hanuman ko bal, buddhi, vidya, shaury aur nirbhayata ka pratik mana jata hai. Sankat kal men hanumanaji ka hi smaran kiya jata hai. Vah sankatamochan kahalate hain. Kaha jata hai ki bajarang bali ne shani maharaj ko kashton se mukt karaya tha, unaki raksha ki thi esalie shani devata ne yah vachan diya tha hanumanaji ki upasana karane valon ko ve kabhi kasht nahin denge. Balki kashton ko door kar unaki raksha karenge.




SHani ya sadh़esati ki vajah se hone vale kashton ke nivaran hetu hanumanaji ki aaradhana karani chahie. Bajarang bali ki pooja se shani ka prakop shant hota hai. Soory v mangal ke sath shani ki shatruta v yogon ke karan utpann kasht bhi door ho jate hain.

* Mangalavar ko sooryoday ke samay nahakar om shri hanumate namh mantr ka jap karen.
* Mangal ko subah tanbe ke lote men jal v sindoor mishrit kar shri hanumanaji ko arpit karen.
* SHri hanuman yantr ko siddh kar lal dhage men dharan karen, har mangalavar ko esaka vidhivat poojan karen.
* Lagatar das mangalavar tak shri hanuman ko gud ka bhog lagaen.
* SHukl paksh ke pahale mangalavar se yah kriya shuroo karen.
* Har mangalavar ko shri hanuman chalisa ka path karen.
* CHitra ya mgashira nakshatron men kisi bhi mangalavar se shuroo kar lagatar 10 mangalavar tak shri hanuman ke mandir men jakar kele ka prasad chadhaen.
* CHameli ke tel men sindoor milakar shri hanuman ko arpit karen. Yah upay mangalavar ke din karane se shighr safalata milati hai.




http://hindi.webduniya.com/religion-astrology-tantra/%E0%A4%B8%E0%A4%AD%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A3-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%B9%E0%A4%A8%E0%A5%81%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%9C%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%86%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%A7%E0%A4%A8%E0%A4%BE-1140120043_1.htm


शनि की साढ़ेसाती में करे हनुमानजी की उपासना | Shani Ki Sadesati Me Kare Hanuman Ki Upasana - : End

Post a Comment


 

 

 

 

PAYMENT METHOD

Top