आज के बोल
जासु दूत बल बरनि न जाई। तेहि आएँ पुर कवन भलाई ॥

राम काज में सहयोग के लिए कैकेयी ने स्वीकारा कलंक का टीका

Ram Kaj Men Sahayog Ke Lie Kaikeyi Ne Svikara Kalank Ka Tika

Ram kaj men sahayog ke lie kaikeyi ne svikara kalank ka tika | राम काज में सहयोग के लिए कैकेयी ने स्वीकारा कलंक का टीका |

 

महाराज दशरथ ने कैकेय नरेश की राजकुमारी कैकेयी से विवाह किया। यह महाराज का अंतिम विवाह था। महारानी कैकेयी अत्यंत पति परायणा थीं। महाराज उनसे सर्वाधिक प्रेम करते थे।

देवताओं और असुरों में संग्राम होने लगा। महाराज दशरथ को देवराज इंद्र ने अपनी सहायता के लिए आमंत्रित किया। महारानी कैकेयी भी युद्ध में उनके साथ गईं। घोर युद्ध करते हुए महाराज दशरथ थक गए तथा अवसर पाकर असुरों ने उनके सारथी को मार डाला। 

 

कैकेयी जी ने आगे बढ़कर रथ की लगाम को अपने मुख में ले लिया और वह धनुष चढ़ाकर बाणों की वृष्टि करते हुए अपने पति की रक्षा करने लगीं। महाराज सावधान हुए और दूसरा सारथी आया, तब महारानी अपने स्थान से हटीं। 

 

सहसा कैकेयी जी ने देखा कि शत्रु के बाण से रथ का धुरा कट गया है। वह रथ से कूद पड़ीं और धुरे के स्थान पर अपनी पूरी भुजा ही लगा दी। दैत्य पराजित होकर भाग गए। तब महाराज को उनके अद्भुत धैर्य और साहस का पता लगा। देव वैद्यों ने महारानी की घायल भुजा को शीघ्र ठीक कर दिया। महाराज दशरथ ने प्रसन्न होकर दो बार अपनी प्राण रक्षा करने के लिए महारानी को दो वर देने का वचन दिया। महाराज के आग्रह करने पर ‘मुझे जब आवश्यकता होगी तब मांग लूंगी।’ यह कह कर उन्होंने बात टाल दी।

 

एक दिन महारानी कैकेयी की दासी मंथरा दौड़ती हुई आई। उसने महारानी से कहा, ‘‘रानी! कल प्रात: महाराज ने श्री राम को युवराज बनाने की घोषणा की है। आप बड़ी भोली हैं। आप समझती हैं कि आपको महाराज सबसे अधिक चाहते हैं। यहां चुपचाप सब हो गया और आपको पता तक नहीं।’’

 

तेरे मुख में घी-शक्कर! अहा, मेरा राम कल युवराज होगा। यह मंगल समाचार सुनाने के लिए मैं तुम्हें यह हार पुरस्कार में प्रदान करती हूं।’’ कैकेयी जी ने प्रसन्नता से कहा।

 

मंथरा ने कुटिलता से कहा, ‘‘अपना हार रहने दीजिए। कौन भरत युवराज हो गए, जो आप उपहार देने चली हैं। राजा आप से अधिक प्रेम करते हैं। इसलिए कौशल्या जी आप से ईष्र्या करती हैं। अवसर पाकर उन्होंने अपने पुत्र को युवराज बनाने के लिए महाराज को तैयार कर लिया। श्री राम राजा होंगे और आपको कौशल्या जी की दासी बनना पड़ेगा। मेरा क्या। मैं तो दासी हूं और दासी ही रहूंगी।’’

 

नियति वश कैकेयी ने मंथरा की बातों का विश्वास कर लिया और कोप भवन के एकांत में महाराज दशरथ  से श्री राम के लिए चौदह वर्ष का वनवास और भरत के लिए राज्य का वरदान मांग लिया। श्री राम के वियोग में महाराज दशरथ ने शरीर छोड़ दिया। कैकेयी जी बड़े ही उत्साह से भरत के आगमन की प्रतीक्षा कर रही थीं। भरत को आया जानकर वह बड़े ही उत्साह से आरती सजा कर उनके स्वागत के लिए बढ़ीं किन्तु जिस भरत पर उनकी सम्पूर्ण आशाएं केंद्रित थीं, उन्हीं ने उनको दूध की मक्खी की तरह निकाल कर फैंक दिया। भरत ने उन्हें मां कहना भी छोड़ दिया। जिन कौशल्या से वे प्रतिशोध लेना चाहती थीं, भरत की दृष्टि में उन्हीं कौशल्या का स्थान मां से भी ऊंचा हो गया।

 

जब भरत जी श्री राम की चरण पादुका लेकर अयोध्या के लिए विदा होने लगे तो एकांत में कैकेयी ने श्री राम से कहा, ‘‘आप क्षमाशील हैं। करूणासागर हैं। मेरे अपराधों को क्षमा कर दें। मेरा हृदय अपने पाप से दग्ध हो रहा है।’’

 

‘‘आपने कोई अपराध नहीं किया है। सम्पूर्ण संसार की ङ्क्षनदा और अपयश लेकर भी आपने मेरे और देवताओं के कार्य को पूर्ण किया है। मैं आप से अत्यंत प्रसन्न हूं।’’ 

 

श्री राम ने कैकेयी को समझाया। वनवास से लौटने पर श्री राम सबसे पहले कैकेयी के भवन में गए। पहले उन्हीं का आदर किया। कैकेयी जी का प्रेम धन्य है, उन्होंने सदा के लिए कलंक का टीका स्वीकार कर श्री राम के काज में सहयोग दिया।

-----

Ram Kaj Men Sahayog Ke Lie Kaikeyi Ne Svikara Kalank Ka Tika

 

Maharaj dasharath ne kaikey naresh ki rajakumari kaikeyi se vivah kiya. Yah maharaj ka antim vivah tha. Maharani kaikeyi atyant pati parayana thin. Maharaj unase sarvadhik prem karate the.

Devataon aur asuron men sangram hone laga. Maharaj dasharath ko devaraj endr ne apani sahayata ke lie aamantrit kiya. Maharani kaikeyi bhi yuddh men unake sath gen. GHor yuddh karate hue maharaj dasharath thak ge tatha avasar pakar asuron ne unake sarathi ko mar dala. 

 

Kaikeyi ji ne aage badh़kar rath ki lagam ko apane mukh men le liya aur vah dhanush chadh़akar banon ki vshti karate hue apane pati ki raksha karane lagin. Maharaj savadhan hue aur doosara sarathi aaya, tab maharani apane sthan se hatin. 

 

Sahasa kaikeyi ji ne dekha ki shatru ke ban se rath ka dhura kat gaya hai. Vah rath se kood pad़in aur dhure ke sthan par apani poori bhuja hi laga di. Daity parajit hokar bhag ge. Tab maharaj ko unake adbhut dhairy aur sahas ka pata laga. Dev vaidyon ne maharani ki ghayal bhuja ko shighr thik kar diya. Maharaj dasharath ne prasann hokar do bar apani pran raksha karane ke lie maharani ko do var dene ka vachan diya. Maharaj ke aagrah karane par ‘mujhe jab aavashyakata hogi tab mang loongi.’ Yah kah kar unhonne bat tal di.

 

Ek din maharani kaikeyi ki dasi manthara daud़ti hue aae. Usane maharani se kaha, ‘‘rani! kal prat: Maharaj ne shri ram ko yuvaraj banane ki ghoshana ki hai. AAp bad़i bholi hain. AAp samajhati hain ki aapako maharaj sabase adhik chahate hain. Yahan chupachap sab ho gaya aur aapako pata tak nahin.’’

 

Tere mukh men ghi-shakkar! aha, mera ram kal yuvaraj hoga. Yah mangal samachar sunane ke lie main tumhen yah har puraskar men pradan karati hoon.’’ Kaikeyi ji ne prasannata se kaha.

 

Manthara ne kutilata se kaha, ‘‘apana har rahane dijie. Kaun bharat yuvaraj ho ge, jo aap upahar dene chali hain. Raja aap se adhik prem karate hain. Esalie kaushalya ji aap se eshrya karati hain. Avasar pakar unhonne apane putr ko yuvaraj banane ke lie maharaj ko taiyar kar liya. SHri ram raja honge aur aapako kaushalya ji ki dasi banana pad़ega. Mera kya. Main to dasi hoon aur dasi hi rahoongi.’’

 

Niyati vash kaikeyi ne manthara ki baton ka vishvas kar liya aur kop bhavan ke ekant men maharaj dasharath  se shri ram ke lie chaudah varsh ka vanavas aur bharat ke lie rajy ka varadan mang liya. SHri ram ke viyog men maharaj dasharath ne sharir chhod़ diya. Kaikeyi ji bad़e hi utsah se bharat ke aagaman ki pratiksha kar rahi thin. BHarat ko aaya janakar vah bad़e hi utsah se aarati saja kar unake svagat ke lie badh़in kintu jis bharat par unaki sampoorn aashaen kendrit thin, unhin ne unako doodh ki makkhi ki tarah nikal kar faink diya. BHarat ne unhen man kahana bhi chhod़ diya. Jin kaushalya se ve pratishodh lena chahati thin, bharat ki dshti men unhin kaushalya ka sthan man se bhi uncha ho gaya.

 

Jab bharat ji shri ram ki charan paduka lekar ayodhya ke lie vida hone lage to ekant men kaikeyi ne shri ram se kaha, ‘‘aap kshamashil hain. Karoonasagar hain. Mere aparadhon ko kshama kar den. Mera hday apane pap se dagdh ho raha hai.’’

 

‘‘AApane koe aparadh nahin kiya hai. Sampoorn sansar ki nkshanada aur apayash lekar bhi aapane mere aur devataon ke kary ko poorn kiya hai. Main aap se atyant prasann hoon.’’ 

 

SHri ram ne kaikeyi ko samajhaya. Vanavas se lautane par shri ram sabase pahale kaikeyi ke bhavan men ge. Pahale unhin ka aadar kiya. Kaikeyi ji ka prem dhany hai, unhonne sada ke lie kalank ka tika svikar kar shri ram ke kaj men sahayog diya.

-----


राम काज में सहयोग के लिए कैकेयी ने स्वीकारा कलंक का टीका | Ram Kaj Men Sahayog Ke Lie Kaikeyi Ne Svikara Kalank Ka Tika - : End

Post a Comment


 

 

 

 

PAYMENT METHOD

Top