आज के बोल
जासु दूत बल बरनि न जाई। तेहि आएँ पुर कवन भलाई ॥

पर्स में रखें ये अभिमंत्रित पत्ता

Pars Men Rakhen Ye Abhimantrit Patta

Pars men rakhen ye abhimantrit patta | पर्स में रखें ये अभिमंत्रित पत्ता |

हनुमान अष्टमी को सुबह स्नान करने के बाद बड़ के पेड़ का एक पत्ता तोड़ें और इसे साफ स्वच्छ पानी से धो लें। अब इस पत्ते को कुछ देर हनुमानजी की प्रतिमा के सामने रखें और इसके बाद इस पर केसर से श्रीराम लिखें। अब इस पत्ते को अपने पर्स में रख लें। साल भर आपका पर्स पैसों से भरा रहेगा। इसके बाद जब दोबारा हनुमान अष्टमी का पर्व आए तो इस पत्ते को किसी नदी में प्रवाहित कर दें और इसी प्रकार से एक और पत्ता अभिमंत्रित कर अपने पर्स में रख लें।

 

source : http://religion.bhaskar.com/

 

Pars Men Rakhen Ye Abhimantrit Patta

Hanuman ashtami ko subah snan karane ke bad bad़ ke ped़ ka ek patta tod़en aur ese saf svachchh pani se dho len. Ab es patte ko kuchh der hanumanaji ki pratima ke samane rakhen aur esake bad es par kesar se shriram likhen. Ab es patte ko apane pars men rakh len. Sal bhar aapaka pars paison se bhara rahega. Esake bad jab dobara hanuman ashtami ka parv aae to es patte ko kisi nadi men pravahit kar den aur esi prakar se ek aur patta abhimantrit kar apane pars men rakh len.

 

source : http://religion.bhaskar.com/

 


पर्स में रखें ये अभिमंत्रित पत्ता | Pars Men Rakhen Ye Abhimantrit Patta - : End

Post a Comment


 

 

 

 

PAYMENT METHOD

Top